अब भारत में बनेगा जरूरतमंद लोगों का विज़डमलैंड

निर्धन को आवास, अनपढ़ को शिक्षा और जरूरतमंद को आर्थिक मदद। सिर्फ इतना ही नहीं, जीवन जीने के लिए संघर्ष कर रही लड़कियों और बूढ़े लोगों की सुरक्षा के भी खास इंतज़ाम। ऐसा ही मकसद लेकर भारत आई हैं आर्ट फॉर पीस कल्चर अवार्ड्स की प्रेसीडेंट मुन्नी इरोने, जो बेरोज़गार लोगों को नौकरी भी देना चाहती हैं ताकि यहां युवाओं की प्रतिभा देश को मज़बूत करने में काम आए। पिछले दिनों मुंबई के द व्यू में आयोजित हुए एक इवेंट में उन्होंने बताया कि उनका मकसद एक विज़डमलैंड बनाना है जहां हर जरूरतमंद को रोज़गार मिले, उनकी सुरक्षा हो और आवासहीन लोगों को शेल्टर दिया जा सके। चंडीगढ़ में इसके लिए उन्होंने छह एकड़ ज़मीन भी ले ली है लेकिन उनका दायरा

 अब भारत में बनेगा जरूरतमंद लोगों का विज़डमलैंड

अब भारत में बनेगा जरूरतमंद लोगों का विज़डमलैंड

सिर्फ वहीं तक सीमित नहीं है। देशभर में उन्होंने विज़डमलैंड का साम्राज्य फैलाना है। इस मामले में उन्हें धर्मागिरी प्रोडक्शन की गिरिजा यदुवंशी से काफी सहयोग मिला  है और उनकी कंपनी पार्टनर भी हैं। मुन्नी अमेरिका की हैं और उन्होंने कै लिफोर्निया, अफ्रीका में भी आर्ट फॉर पीस के लिए काम किया है। इससे पहले दिल्ली में आर्ट फॉर पीस अवार्ड का आयोजन हो चुका है, जिसका दायरा अब बढ़ता चला जाएगा। मुन्नी चाहती हैं कि उनके साथ एक अच्छी टीम जुड़े, जो जरूरतमंद लोगों के लिए काम आ सके। इस मौके पर मौजूद गिरिजा यदुवंषी ने बताया कि उनके धर्मागिरी प्रोडक्षन का प्रोजेक्ट फिल्म ड्रीमगर्ल को हॉलीवुड में लॉन्च करने में सहयोग देंगी मुन्नी इरोने। इसके अलावा हम कुछ और प्रोजेक्ट्स भी लाने वाले हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: